Top 10 gurudwara in india

#1.गुरुद्वारा हरमिदर साहिब

#Gurudwara harminder sahib/golden temple

“गुरुद्वारा हरमिदर साहिब”पंजाब के अमृतसर मे स्थित है,इसे दरबार साहिब और सर्वन मन्दिर(golden temple)के नाम से भी जाना जाता है,तथा ये भारत के मुख्य दार्शनिक स्थल मे से एक है और विश्व मे भी प्रसिद्ध है तथा ये दिखने मे काफी खुबसूरत है व यहा काफी सख्या मे लोग दर्शन करने आते है और बताया जाता है की गुरूद्वारे को बचाने के लिये “महाराजा रंजीत सिंह”ने गुरूद्वारे का हिस्सा सोने से ढक दिया था इसलिए इसे सर्वन मन्दिर का नाम दिया गया|

यह भी पढ़े:भारत के 10 सबसे अमीर मन्दिर,वैष्णोदेवी मन्दिर चौथे स्थान पर,

#2.गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब

#Gurudwara shri hemkund sahib,uttrakhand

यह गुरुद्वारा उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले मे स्थित है तथा ये समुद्र ताल से 4000 मीटर की उचाई पर व हिमालया की गोद मे बसा है इसे “गुरु गोविन्द सिंह” जी की याद मे बनाया गया और इसका निर्माण आकार सितारे के जैसा है तथा ये सुन्दरता के साथ ही वास्तु कला का उदाहरण भी है यहा “अक्टूबर से अप्रैल”महीनों मे बर्फबारी होती है जिस कारण इसे इस समय बंद कर दिया जाता है ताकि यात्रियों की सुरक्षा रहे तथा इसका नाम “हेमकुंड” जिसका अर्थ “बर्फ का कुंड” होता है के आधार पर रखा गया है|

#3.गुरुद्वारा पावटा साहिब

#Gurudwara pawta sahib,sirmor.HP

यह गुरुद्वारा हिमाचल प्रदेश के सिरमौर शहर मे स्थित है जो की “दसवे गुरु” श्री “गुरु गोविन्द सिंह”जी को समर्पित है तथा इसी स्थान पर गुरु गोविन्द सिंह जी ने अपने जीवन के 4 साल बिताये व इसी स्थल पर दसम ग्रन्थ कि रचना कि गयी,और गुरुद्वारा मे एक संघरालय भी बना हुआ है जिसमे गुरु के उपयोग मे ली जाने वाली कलम व उनके हथियार आदि को दर्शाया गया है|

यह भी पढ़े:भारत के टॉप 10 सबसे बड़े स्कूल, धीरूभाई अंबानी स्कूल तीसरे स्थान पर||

#4.गुरुद्वारा हजूर साहिब

#gurudwra hajur sahib,maharashtra

यह गुरुद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ नगर मे गोदावरी नदी के किनारे स्थित है,ये काफी खूबसूरत है और यहा भी काफी सख्या मे यात्रि आते है,बताया जाता है कि गुरु गोविन्द सिंह जी ने यहा आखिरी सांस ली थी,और 1832-1837 ई.मे महाराजा रणजीत सिंह द्वारा गुरूद्वारे का निर्माण करवाया गया था|

#5.गुरुद्वारा सीस गंज

#gurudwara sish ganj, delhi

यह गुरुद्वारा भारत की राजधानी दिल्ली मे स्थित है,और ये सबसे पुराना व ऐतिहासिक गुरुद्वारा है जिसे सन 1930 मे बनाया गया था, ये गुरु तेग बहादुर और उनके अनुयापियो को समर्पित है तथा इसी स्थान पर गुरु तेग बहादुर को मौत की सजा दी गयी, क्यूंकि गुरु तेग बहादुर जी ने मुग़ल बादशाह औरगजेब के इस्लाम धर्म को अपनाने के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था तथा आज भी इस गुरूद्वारे मे वह ट्रक रखा है जिससे गुरु तेग बहादुर जी को मौत के घाट उतारा गया था|

यह भी पढ़े:भारत की 10 सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी,दिल्ली यूनिवर्सिटी सातवे स्थान पर||

#6.तख्त श्री दमदमा साहिब

#Takth shri damdma sahib,bhatinda.(PB)

यह गुरुद्वारा पंजाब के बठिंडा शहर से 28 किलोमीटर दूर तलवंडी मे स्थित है तथा दमदमा साहिब सिखो के पांच तख्तो मे से एक है इसे गुरु की कासी के रूप मे भी जाना जाता है बताया जाता है की मुग़ल अत्याचारों के बाद गुरु गोविन्द सिंह जी यहा आकार रुके थे|

#7.गुरुद्वारा मणिकरण साहिब

#gurudwara manikaran sahib,manali (hp)

गुरुद्वारा मणिकरण साहिब हिमाचल प्रदेश के मनाली मे स्थित है तथा ये मनाली के पहाड़ो के बीच व सुन्दर दर्श्यो से घिरा हुए गुरुद्वारा है व कुल्लू से इसकी दुरी 45किलोमीटर है,और ये पुल के एक क्षोर पर बना है व दूसरे क्षोर पर भगवान शिव का प्रसिद्ध मन्दिर है,और यह वह स्थान है जहाँ गुरु नानक देव जी 1574 मे अपने पांच अनुयापियो सहित यहा आये थे जिनमे भाई बाला और मर्दन भी थे और अपनी इस यात्रा दौरान गुरु नानक देव जी ने ध्यान लगाया था|

यह भी पढ़े:भारत के 10 सबसे बड़े हॉस्पिटल, अपोलो तीसरे स्थान पर||

#8.गुरुद्वारा श्रीकेशगढ़ साहिब

#Gurudwara shri keshgarh sahib.Aanadpur

यह गुरुद्वारा पंजाब के आनदपुर शहर मे स्थित है,आनदपुर शहर की स्थापना सिखो के 9वे गुरु “गुरु तेग बहादुर “ने की थी तथा ये सिखो के 5 तख्तो मे से एक है और यहा भी काफी सख्या मे यात्रि आते है इसलिए ये गुरुद्वारा काफी प्रचलित है और इसे खास गुरुद्वारों मे से एक माना जाता है|

#9.गुरुद्वारा बंगला साहिब

#Gurudwara bangla sahib, delhi

गुरुद्वारा बंगला साहिब दिल्ली के क्नॉट पैलेस (cannout palace)मे स्थित है,इसे गुरु हरकृष्ण देव जी की याद मे बनाया गया, पहले इसे जयसिंहपुरा पैलेस कहते थे जिसे बाद मे बंगला साहिब का नाम दिया गया,क्यूंकि यह जगह राजा जयसिंह की थी जिसे बाद मे गुरु हरकृष्ण देवजी की याद मे बनाया गया था,बताया जाता है की सन 1664 मे गुरु हरकृष्ण देवजी यहा आकार रुके थे,गुरूद्वारे का गुंबद सोने का बना है व इसमें एक म्युसियम भी बना है जो सिखो के इतिहास को दर्शाता है, इस गुरूद्वारे मे बने तालाब के पानी को अमृत सामान जीवनदायी व पवित्र माना जाता है|

यह भी पढ़े :भारत के 10 सबसे बड़े डॉक्टर,जो भगवान से कम नहीं है|

#10.गुरुद्वारा फतेहगढ़ साहिब

#Gurudwara fatehgarh sahib.Punjab

यह गुरुद्वारा पंजाब के फतेहगढ़ जिले मे स्थित है, इसलिए इसका नाम भी फतेहगढ़ साहिब रखा गया ये भी प्रचलित गुरुद्वारा है तथा काफी सख्या मे यहा यात्रि आते है,गुरूद्वारे की मुख्य विशेषता है की ये गुरुद्वारा सफ़ेद पत्थर व सीखा वास्तुकला मे बना है जिसका गुबंद सोने का बना है|

यह भी पढ़े:भारत के 10 सबसे बड़े रेल्वे स्टेशन, हावड़ा स्टेशन तीसरे स्थान पर||

Advertisements

4 Comments »

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.