#1.पद्मनाभस्वामी मन्दिर

#Padmanabhaswami temple,trivanthpuram

पद्मनाभस्वामी मन्दिर केरल की राजधानी त्रिवंतपुरम मे स्थित है,जो की भारत मे ही नहीं बल्कि विश्व के भी अमीर मन्दिर मे आता है,यह भगवान विष्णु का मन्दिर है तथा इसे द्रविड़ शैली मे बनाया गया है और यहा हर साल काफी सख्या मे श्रदालु आते है,जो की सोना, चांदी और हीरे का दान करते है, रिपोर्ट के मुताबिक मन्दिर सोने चांदी और हीरे सहित कुल 1 लाख करोड़ की सम्पति है, जो इसे भारत के प्रथम स्थान पर लती है|

मन्दिर वेबसाइट :http://www.sreepadmanabhaswamytemple.org

यह भी पढ़े:भारत के 10 सबसे बड़े गुरूद्वारे,

#2.तिरुपति वेन्कटेशवर मन्दिर

#Tirupati Venkateswara Temple, Tirumala

ये मन्दिर आंध्र प्रदेश के तिरुपति शहर मे स्थित है,इसे तिरुपति बालाजी व तिरुमाला मन्दिर भी कहते है, क्यूंकि ये मन्दिर तिरुमाला की पहाड़ियों पर बना है,मन्दिर कई वर्षो पुराना है और 5वी शताब्दी तक ये प्रमुख धार्मिक स्थल बन चूका था, हर वर्ष काफी लाखों की सख्या मे श्रदालु यहा आते है और त्यौहार के समय यहा भक्तो की सख्या काफी बढ़ जाती है, मन्दिर मे श्रदालुओ द्वारा सोने का चढ़ावा आता है और अनुमान रिपोर्ट अनुसार मन्दिर के भंडार 51 टन सोने से भरे हुए है जिसका मूल्य लगभग 36000 से 37000 हजार करोड़ रुपये है, जो की इसे भारत का अमीर मन्दिर बनाती है|

मन्दिर वेबसाइट :http://www.tirumala.org

यह भी पढ़े :भारत के 10 अमीर राज्य,तमिलनाडु दूसरे स्थान पर|

#3.साईंबाबा मन्दिर,

#saibaba mandir,shirdi

साईबाबा मन्दिर महाराष्ट्र के शिरडी शहर मे स्थित है, इसे शिरडी साईबाबा भी कहा जाता है,तथा आपको बता दे की साईबाबा पर हर धर्म के लोग विस्वाश रखते है और काफी ज्यादा सख्या मे यहा श्रदालु आते है जो सोना चांदी, रुपये का दान करते है,पिछले वर्ष दिसंबर 2017 मे 22 से 25 दिसंबर इन महज 4 दिन मे श्रद्धालुओ द्वारा 5 करोड़ का दान दिया गया जिससे गिनने मे स्टाफ के पसीने तक छूट गए थे तथा हर साल कई करोड़ो का दान यहा आता है, मन्दिर मे साईं बाबा का सिंहासन 95 किलोग्राम सोने मे बना है तथा ये भारत का तीसरा सबसे अमीर मन्दिर है|

#मन्दिर वेबसाइट :http://www.sai.org.in

यह भी पढ़े :भारत की 10 सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी,दिल्ली यूनिवर्सिटी सातवे स्थान पर||

#4.वैष्णोदेवी मन्दिर

#veshno devi mandir.

वैष्णोदेवी मन्दिर जम्मू -कश्मीर के कटरा शहर मे स्थित है,यह 52,000 हजार फिट की उचाई पर बना है तथा ये भगवती पहाड़ी पर बनीं गुफा के अंदर बना है, वैसे तो मन्दिर कई वर्षो पुराना है और लोकप्रिय भी लेकिन मन्दिर स्टाफ का कहना है की पिछले कुछ वर्षो मे यहा श्रद्धालुओ की सख्या काफी ज्यादा बढ़ी है,भक्तो द्वारा काफी मात्रा मे दान दिया जाता है, मन्दिर की वार्षिक आय लगभग 500 करोड़ रूपए है|

#मन्दिर वेबसाइट :http://www.maavaishnodevi.org/

यह भी पढ़े :भारत के टॉप 10 सबसे बड़े स्कूल, धीरूभाई अंबानी स्कूल तीसरे स्थान पर||

#5.सिद्धि विनायक मन्दिर

#sidhi vinayak mandir.

सिद्धि विनायक मन्दिर महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई मे स्थित है और गणपति बाबा का सबसे लोकप्रिय मन्दिर है,गणेश चतुर्थी के समय यहा लाखों की सख्या मे श्रद्धालु आते है,कुछ महीने पहले ही यहा एप्पल (apple) के सीईओ (CEO) टीम कूक ने भी मन्दिर के दर्शन किये और बॉलीवुड हस्तियों का यहा आना जाना लगा रहता है,मन्दिर मे गणेश जी का गबद.3.7 किलोग्राम सोने मे बना है जो की एक कोलकत्ता के व्यापारी ने दान किया और यहा की वार्षिक आय 100 करोड़ से भी ज्यादा है|

मन्दिर वेबसाइट :http://http://www.siddhivinayak.org

यह भी पढ़े :भारत के 10 सबसे बड़े एयरपोर्ट, चेन्नई चौथे स्थान पर||

#6.जगन्नाथ मन्दिर

#jagannath mandir.

जगन्नाथ मन्दिर ओड़िशा राज्य के पुरी शहर मे स्थित है तथा ये भगवान जगन्नाथ का मन्दिर है इसे दरिद्र नारायण(देवता) के नाम से भी जाना जाता है,यहा भी काफी सख्या मे भगत आते है तथा मन्दिर की नेट वर्थ 250 करोड़ रुपये व वार्षिक आय लगभग 50 करोड़ रुपये है|

मन्दिर वेबसाइट :http://www.http://jagannath.nic.in

#मन्दिर का इतिहास:

12वी शताब्दी के बाद मन्दिर पर कुल 18 बार हमला हुआ था,जिसके बाद मन्दिर मे 7 चैम्बर होने के बावजूद भी 2 ही चैम्बर पूजा और दर्शन के लिए खोले जाते है|

यह भी पढ़े :भारत के 10 सबसे बड़े एयरलाइन्स,जेट एयरवेज तीसरे स्थान पर||

#7.सबरीमाला मन्दिर

#sabrimala mandir.

सबरीमाला मन्दिर केरल मे पत्तनमत्तिट्टा जिले के पेरुंड मे स्थित है और ये घन्हें जंगलो के बीच सुन्दर पहाड़ियों व पेरियार टाइगर रिजर्व के पास स्थित है,मक्का -मदीना के बाद यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तीर्थ माना जाता है,हर वर्ष यहा 100 मिलियन से ज्यादा की सख्या मे भक्त यहा आते है जो की करोड़ो का दान करते है, रिपोर्ट अनुसार 2013 मे यहा पर 203 करोड़ रूपये की राशि दान से आई जो की मन्दिर को अमीर बनाने मे सक्षम है तथा यहा पर व्यापार करने वाले व्यापारी की कमाई भी करोड़ो मे है बताया गया है की यहा पर एक व्यापारी अरविन्द प्रसाद ने अपने व्यापार से ही 74 करोड़ कि कमाई कर ली तो इसमें कोई शक नहीं है कि मन्दिर मे इतना चढ़ावा कहा से आता है|

#8.मीनाक्षी मन्दिर

#meenakshi temple

मीनाक्षी मन्दिर तमिलनाडु के मदुराई शहर मे स्थित है, मीनाक्षी मन्दिर पार्वती के रूप मे व पार्वती के पवित्र स्थानों मे एक है,मीनाक्षी मन्दिर के आस पास काफी सख्या मे मन्दिर तथा यह मन्दिरो से घिरा हुए मन्दिर है, यहा प्रतिदिन 20 से 25000 हजार श्रदालु आते है, तथा मन्दिर मे अप्रैल से मई के बीच त्यौहार रहता है जिसमे 8 से 10 दिन मे 1 मिलियन से ज्यादा सख्या मे श्रदालु आते है,मन्दिर की वार्षिक आय 10 करोड़ से ज्यादा है|

#मन्दिर का इतिहास:

14 वी शताब्दी मे मुग़ल शासक “मलिक काफर”द्वारा मन्दिर पर हमला कर मन्दिर को लूटा गया था, उसके बाबजूद भी मन्दिर शान से खड़ा है|

मन्दिर वेबसाइट :http:// http://www.maduraimeenakshi.in

यह भी पढ़े :भारत के 10 बड़े रेस्ट्रोरेंट,

#9.काशी विश्वनाथ मन्दिर

#kasi vishvnath mandir.

काशी विश्वनाथ मन्दिर उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर मे स्थित है और ये विश्वनाथ भगवान का मन्दिर है तथा यहा पर भी लाखों की सख्या मे श्रद्धालु आते है व महाशिवरात्रि के दिन श्रदालुओ की सख्या कई गुना बढ़ जाती है,कहा जाता है की मन्दिर के दर्शन करने और गंगा स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है तथा मन्दिर मे बने गुबंद दो सोने की प्लेटो से बना हुआ है और यहा कि वार्षिक आय 6 से 10 करोड़ के बीच है|

#मन्दिर का इतिहास:

यह मन्दिर “महारानी अहिल्या बाई”द्वारा सन 1780 मे बनवाया गया था,जिसे बाद मे सन 1853 मे रंजीत सिंह द्वारा 1000 किलोग्राम शुद्ध सोने से मन्दिर को मढ़वाया गया था|

#मन्दिर वेबसाइट :http://www.shrikashivishwnath.org/

#10.अमरनाथ मन्दिर

#amarnath mandir.

अमरनाथ मन्दिर कश्मीर राज्य के श्रीनगर के उतर पूर्व अमरनाथ मे स्थित है ये मन्दिर अमरनाथ की गुफा मे बना है तथा ये भगवान शिव के प्रमुख धार्मिक स्थलों मे से एक है,यहा पर सावन के महीने मे होने वाले पवित्र हिमलिंग दर्शन के लिए लाखों लोग आते है, तथा इसी समय आस पास के क्षेत्र के लोग भगवान शिव को श्रदांजलि देने जबरदस्त यात्रा के साथ काफी सख्या मे श्रदालु आते है,यहा भी खूब चढ़ावा किया जाता है, मन्दिर की वार्षिक आय लगभग 5 से 7 करोड़ है|

#मन्दिर का इतिहास:

15वी शताब्दी मे बूटा मलिक नामक व्यक्ति जो की रोजाना की तरह बकरिया चराने के लिये गये थे, जहाँ उन्हें एक साधु मिले,जिन्होंने बूटा को अंगीठी जलाने के लिये कोयले का थैला दिया,जिसे बूटा ने घर के उपयोग के लिये रख लिया और वहा से बूटा घर आ गया,घर पहुंचने के बाद ज़ब बूटा ने कोयले ka थैला खोला तो कोयला सोने के सिक्को मे प्रवर्तित हों चूका था और बूटा आश्चर्य मे था और काफी सोचने के बद्दल बूटा उस साधु को धन्यवाद कहने गया तो तब तक साधु वहा से जा चुके थे फिर उसी स्थान पर बूटा को एक गुफा दिखाई दी जिसमे उसे शिवलिंग के दर्शन हुए,फिर उसने यह बात अपने इलाके के लोगो को बताई तब से यह तीर्थ यात्रा का पवित्र स्थल बन गया|

#मन्दिर वेबसाइट :http://www.shriamarnathjishrine.com/

यह भी पढ़े :भारत के 10 खूबसूरत बस स्टेशन,वडोदरा पहले स्थान पर||

Advertisements

7 Comments »

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.